रात गहरी हो गयी च™ो सो जाते है।

रात गहरी हो गयी च™ो सो जाते है।

A Poem by Mr Shayar
"

रात गहरी हो गयी च™ो सो जाते है।

"


रात -हरी हो -यी च™ो सो जाते है।
यादों पर नींद भारी हो -यी, च™ो सो जाते है।।


भू™ना था जिन्हें बेशक, एक इख्तियार कर -ए है।
अब जब बिक ही -ये है, च™ो सो जाते है।।


तस™्™ी किस बात की दूँ तुझे ए-नादां-दि™।
ख्वाबो मैं मु™ाकात हो-ी, च™ो सो जाते है।।


अब एक खामोशी है हर तरफ पसरी "शायर"।
बहरों का शहर है किसे आवाज दें, च™ो सो जाते है।।


© 2017 Mr Shayar



My Review

Would you like to review this Poem?
Login | Register




Request Read Request
Add to Library My Library
Subscribe Subscribe


Stats

25 Views
Added on November 1, 2017
Last Updated on November 1, 2017
Tags: इश्क़, breakup, cry, dard, dosti, frinedship, hindi, life, love, mohbaat, mrshayar, poetry, relation, sad, shayar, shayari, thoughts, urdu, yourquotes

Author

Mr Shayar
Mr Shayar

Jaipur, Rajasthan, India



About
I love to write more..

Writing